Wednesday, January 26, 2011

वो जब याद आती है,, बहुत याद आती है..

26 जनवरी 2011 की शाम को ये पंक्तिया लिखी थी ... 


वो जब याद आती है... बहुत याद आती है ...


वो पहली मुलाकात में नजरे झुकाती, शर्माती


कांपते होंठों से कुछ कह जाती

चोरी चोरी वो हमे देखकर

सहेली के कानो में कुछ बतलाती

नज़रे मिलते ही क्यों सहम जाती है

वो जब याद आती है, बहुत याद आती है |

©लोकेश ब्रह्मभट्ट "मौन"

No comments:

Post a Comment

आँखे

आँखें भारी भारी रहती है  तेरी यादें तारी रहती है  उनके हाथों में फूल होते है  बाजू  में कटारी रहती है  उसकी तो फितरत है लड़ना  अपनी भी तैयारी...