Saturday, May 7, 2022

मातृ दिवस की शुभकामनाएं।

गुस्सा, फ़िक्र और आंसू लिए देहलीज पे हाजिर देखा,
मैं जब भी घर देर से लोटा, 'माँ' को  मुन्तज़िर देखा |
                                       
                                         -लोकेश ब्रह्मभट्ट "मौन"
मुंतज़िर:  प्रतीक्षारत 

No comments:

Post a Comment

नवांकुर

मेरे घर के आंगन में  पुराने केले के पेड़ की जड़ से फूटा  एक नया अंकुर अब बड़ा होकर पेड़ बनने लगा है साथ ही वह पुराना वृक्ष किसी बुजु...