Saturday, June 19, 2021

हद्द है

वो बिना इश्क़ सोगवार है हद्द है
और इश्क़ भी नागवार है हद्द है

जब पता ही था वो बेवफा है
क्यों ये दिल बेकरार है हद्द है

बस ख्वाब में मिलने की आस है 
और आंखों से नींद फरार है हद्द है

जिन रिश्तों की कसमें खायी थी
उन रिश्तों में भी दरार है हद्द है

कोई आसरा ही नहीं रहा लेकिन
एक उम्मीद बरकरार है हद्द है

"मौन" सच लिए खड़े हो यहाँ?
ये झूठ का बाजार है, हद्द है।

©लोकेश ब्रह्मभट्ट "मौन"

1 comment:

  1. Words do have a beauty of their own and this is one such creation.

    ReplyDelete

एक नज़्म

ये तो फिर ठीक है कि जीते हैं पर ये कैसी जीत है कि इस जीत की कोई खुशी ही नहीं।  हो भी क्यों,  की ये खुशी किसी के गम का सबब क्यूँकर हो। इससे त...