Sunday, July 9, 2017

ये शहर फिर शहर सा लगने लगा है

लग रहा है कुछ दीवाने आ गए है शहर में,
ये शहर फिर शहर सा लगने लगा है |

लगता है फिर कोई राज़ है उसके सीने में,
वो अब कुछ और शगुफ्ता रहने लगा है |

चाहूँ न चाहूँ हर वक़्त मुझको,
उसका ही ख्याल रहने लगा है |

वो दुनिया में न आया पर अभी से,
वो दिलो-दिमाग में रहने लगा है |

जबसे उसने ये खबर सुनाई है मुझको,
इन कंधो पे वजन कुछ बढ़ने लगा है |

©लोकेश ब्रह्मभट्ट "मौन"
 25/06/2017

No comments:

Post a Comment

मातृ दिवस की शुभकामनाएं।

गुस्सा, फ़िक्र और आंसू लिए देहलीज पे हाजिर देखा, मैं जब भी घर देर से लोटा, 'माँ' को  मुन्तज़िर देखा |                                ...