Sunday, July 9, 2017

ये शहर फिर शहर सा लगने लगा है

लग रहा है कुछ दीवाने आ गए है शहर में,
ये शहर फिर शहर सा लगने लगा है |

लगता है फिर कोई राज़ है उसके सीने में,
वो अब कुछ और शगुफ्ता रहने लगा है |

चाहूँ न चाहूँ हर वक़्त मुझको,
उसका ही ख्याल रहने लगा है |

वो दुनिया में न आया पर अभी से,
वो दिलो-दिमाग में रहने लगा है |

जबसे उसने ये खबर सुनाई है मुझको,
इन कंधो पे वजन कुछ बढ़ने लगा है |

©लोकेश ब्रह्मभट्ट "मौन"
 25/06/2017

No comments:

Post a Comment

कैसे चला जाऊं इस आशियाने से

मैं इसलिए डरता हूँ कहीं जाने से मैं पर्दा रख पाता नहीं जमाने से खुली किताब हूँ मुझे पढ़कर लोग बाज आते नही मुझे सताने से मेरा चमन है मैंने इसे...