Wednesday, February 15, 2017

ये घर महका महका हुआ है |

ये घर महका महका हुआ है,
तेरे आने का धोखा हुआ है |

मुझे तो इंतज़ार था ही तेरा,
ये बिस्तर भी बहका हुआ है |

अरसे से देखो तुम न आई,
तकिये का चेहरा उतरा हुआ है |

सीने पे तेरी दस्तक की चाह में,
दरवाजा खुद ही तरसा हुआ है |

बस आँख खुले और तुम आओ,
इस उम्मीद में दिल सोया हुआ है |

©लोकेश ब्रह्मभट्ट "मौन"
22 Dec 2017 

No comments:

Post a Comment

मातृ दिवस की शुभकामनाएं।

गुस्सा, फ़िक्र और आंसू लिए देहलीज पे हाजिर देखा, मैं जब भी घर देर से लोटा, 'माँ' को  मुन्तज़िर देखा |                                ...