Saturday, November 28, 2020

खालीपन

शाम सवेरे खालीपन है, सुनी रातें खलती है।
मेरे दिल की बोझल शामें, रोज सवेरे ढलती है।
दूर हुए हैं जबसे उनसे, एक विरह की ही ज्वाला,
इस दिल में भी जलती है और, उस दिल में भी जलती है।

© लोकेश ब्रह्मभट्ट "मौन"

No comments:

Post a Comment

कैसे चला जाऊं इस आशियाने से

मैं इसलिए डरता हूँ कहीं जाने से मैं पर्दा रख पाता नहीं जमाने से खुली किताब हूँ मुझे पढ़कर लोग बाज आते नही मुझे सताने से मेरा चमन है मैंने इसे...