Friday, May 15, 2020

तुम्हारा गुस्सा

ये जो तुम जरा सी बात पर बेवजह, 
बेहिसाब गुस्सा कर लेती हो,
ये हुनर तुम्हें बचपन से आता था?
या मेरा डर से पीला पड़ा चेहरा देखने की ख्वाहिश में
कहीं से तालीम ली है तुमने?
जो भी हो, तुम्हें शायद नहीं मालूम, 
की मैं तो डर जाता हूँ तुमसे,
पर घर की हर एक चीज हंस देती है तुमपे,
तुम्हें इतनी खूबसूरती से गुस्सा करते देख कर।

© लोकेश ब्रह्मभट्ट "मौन"

1 comment:

  1. वाह बहुत सुंदर अनुभूति और शानदर अभिव्यक्ति।

    ReplyDelete

हद्द है

वो बिना इश्क़ सोगवार है हद्द है और इश्क़ भी नागवार है हद्द है जब पता ही था वो बेवफा है क्यों ये दिल बेकरार है हद्द है बस ख्वाब में मिलने की आस...