Friday, January 17, 2020

कौन बड़ी बात है


इश्क़ में झूठी कसमें खाना कौन बड़ी बात है
वादा करके भूल जाना कौन बड़ी बात है 

बुलंदियों पर बैठे है और सारा दहर साथ है,
ऐसे में तेरा लौट के आना कौन बड़ी बात है ।

तू ग़म में चला आता तो कोई बात भी थी,
खुशियों में शरीक होना कौन बड़ी बात है ।

बस्ती बस्ती फिरता हूँ मैं तेरी एक तस्वीर लिए,
इश्क़ में यूं दीवाना होना कौन बड़ी बात है।

तुम अपने ख्वाब भी किसी के नाम करो तो मानें,
इश्क़ में "मौन" जाँ दे देना, कौन बड़ी बात है ।

© लोकेश ब्रह्मभट्ट "मौन"

दहर=world

No comments:

Post a Comment

एक नज़्म

ये तो फिर ठीक है कि जीते हैं पर ये कैसी जीत है कि इस जीत की कोई खुशी ही नहीं।  हो भी क्यों,  की ये खुशी किसी के गम का सबब क्यूँकर हो। इससे त...