Sunday, July 21, 2013

अधुरा...

अधुरा हूँ अरसे से पर एक हसरत है बाकी,
तू लोट के आये और मुकम्मल हो जाऊं |

तेरी बारिश की बूंदों का मुन्तजिर हूँ बरसों से,
तू दरिया बनके आये मैं समुन्दर हो जाऊं |

ये तिश्नगी-ऐ-दिल किसी मह से कहाँ बुझने वाली,
तू बस आँखों से पिला दे मैं शायर हो जाऊं |

यूँ पथराई आँखों से तेरी राह को तकते तकते,
ऐसा ना हो मैं राह का पत्थर हो जाऊं |

"मौन" बड़े हैरत से देखता है हर शख्स मुझे,
आ जाओ इससे पहले के बुत-ऐ-नुमाइश  हो जाऊं |

©लोकेश ब्रह्मभट्ट "मौन"

No comments:

Post a Comment

तुम्हारा गुस्सा

ये जो तुम जरा सी बात पर बेवजह,  बेहिसाब गुस्सा कर लेती हो, ये हुनर तुम्हें बचपन से आता था? या मेरा डर से पीला पड़ा चेहरा देखने की ख्वा...