Sunday, July 21, 2013

अधुरा...

अधुरा हूँ अरसे से पर एक हसरत है बाकी,
तू लोट के आये और मुकम्मल हो जाऊं |

तेरी बारिश की बूंदों का मुन्तजिर हूँ बरसों से,
तू दरिया बनके आये मैं समुन्दर हो जाऊं |

ये तिश्नगी-ऐ-दिल किसी मह से कहाँ बुझने वाली,
तू बस आँखों से पिला दे मैं शायर हो जाऊं |

यूँ पथराई आँखों से तेरी राह को तकते तकते,
ऐसा ना हो मैं राह का पत्थर हो जाऊं |

"मौन" बड़े हैरत से देखता है हर शख्स मुझे,
आ जाओ इससे पहले के बुत-ऐ-नुमाइश  हो जाऊं |

©लोकेश ब्रह्मभट्ट "मौन"

No comments:

Post a Comment

तेरे आने की उम्मीद ने सोने ना दिया

होनी को तो बहुत मंजूर था मगर होने ना दिया उसकी दुवाओं ने मुझे मुन्तशिर होने ना दिया बहुत ख़्वाबीदा सी लग रही है आंखें तुम्हारी कुछ तो है जिसन...