Wednesday, November 12, 2008

meri pahli shayri


एक उम्र बिता दी इंतजार में यूँ ही , की वो आयेंगे वादा निभाने को 

न वो आये न खबर कोई, तब कूच किया महखाने को |